हयात

ना हयात काबिल-ए-कद्र थी, ना ही मौत में कोई लुत्फ़ आया
ना तो वस्ल-ए-यार मिला मुझे, ना ही हिज़्र ने मेरा दिल जलाया 
वो तो रोज मुझसे मिला किया, मेरे ख़्वाब मेरे ख्याल में
ना ग़म-ए-हयात का ज़िक्र था, ना ही हाल-ए-दिल का बयान आया ||

 

Advertisements

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s