वो तीनो

वो तीनो
रोज
रात के खाने के बाद
टहलने निकलते थे
इस ख्वाहिश में
की शायद
कभी
कहीं
कोई
चाँद का टुकड़ा
सुन्दर सा मुखड़ा
नज़र आ जाए ||

और रोज
आधे घंटे बाद
वो तीनो
वापस लौट आते थे
गेस्ट हाउस की तरफ
बैरंग लिफाफों की तरह
“स्टाम्प देय” की मुहर मुंह पर चिपकाए ||

Advertisements

Leave a Comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s